FIR | गुजरातमें नफरत का वायरस फैलाने वाले 1388 लोग अबतक गिरफ्तार हो चुके हैं। पढ़िए विस्तार से…

Wjatsapp
Telegram

गुजरात के युवा लगातार ट्विटर, व्हाट्सएप, मेल और फोन के माध्यम से नफरत फैलाने वाले वायरसों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवा रहे हैं।

कुछ कट्टरवादी संगठन इस मुहिम को बदनाम करने कि कोशिश कर रहे हैं कि हम किसी एक समुदाय के लोगो को टारगेट कर रहे हैं लेकिन इसमें बिल्कुल भी सच्चाई नही है क्योंकि हमारे तमाम साथी स्पष्ट रूप से मानते हैं कि नफरत फैलाने वाले वायरस सिर्फ नफरत फैलाने वाले वायरस ही है और उनका कोई धर्म नही है। लेकिन हम को इस तरह की बिना सर पैर के विरोध से कोई फर्क नहीं पड़ता है हा लेकिन वैसी ताकते भी अगर नफरत फैलाएगी तो हम उसके खिलाफ भी शिकायत दर्ज करवा कर FIR दर्ज करवाएंगे।

गुजरात पुलिस के बहोत से अधिकारी लगातार बहुत अच्छा काम कर रहे हैं इसमे मेहसाणा के SP साहब और पुलिस के अधिकारियों का रोल बहोत अच्छा रहा है उन्होंने एक नफरत फैलाने वाले वायरस को PASA में बंद कर दिया है क्योंकि इसका पुराना रिकॉर्ड था कि उसने मेहसाणा में दंगा भड़काने की कोशिश की थी।

Sharuaat Book Store પરથી પુસ્તકો મેળવવા અહીં ક્લીક કરો.

सरकारी रिकॉर्ड के मुताबिक 6/5/2020 तक 668 FIR दर्ज हुई और 1388 गिरफ्तारी हुई है। 628 सोशल मीडिया एकाउंट ब्लॉक हुए।

गुजरात के अनुभव से हम कह सकते हैं कि देश के अलग अलग हिस्सों में भी इसी तरह से नफरत फैलाने वाले वायरस के खिलाफ अलग अलग माध्यमो का इस्तेमाल कर के FIR दर्ज करवा सकते हैं। हम लगातार यही कह रहे हैं नफरत फैलाने वाले वायरसों का एक ही इलाज है कि उनके खिलाफ ज्यादा से ज्यादा FIR दर्ज करवाई जाए।

– एडवोकेट शमशाद पठान
(कन्वीनर अल्पसंख्यक अधिकार मंच)

Sharuaat

સેંકડો યુવાનો છે જે ખરેખર પરિવર્તનનું કામ કરી રહ્યા છે અથવા તો આ વ્યવસ્થાને બદલવા રસ્તો શોધી રહ્યા છે. આવા યુવાદીપકો થકી બીજા યુવાઓને જગાડવા છે, ભ્રષ્ટ વ્યવસ્થા સામે લડતા કરવા છે. સાથે સાથે જે યુવાનોને યોગ્ય પ્લેટફોર્મ નથી મળી રહ્યું તેમને પણ મદદ કરવી એવો અમારો આશય છે. રાજકીય, સામાજિક, કળા, સાહિત્ય, IT, સોસીઅલ મીડિયા, વિજ્ઞાન, સંશોધન, વિગેરે એમ દરેક ક્ષેત્રમાં, યુવાનો માટે જે અગણિત સંભાવનાઓ છુપાયેલી છે, એ તેમને આ મેગેઝીનના માધ્યમથી તેમના હાથની હથેળી સુધી પહોંચાડવી છે. આ આર્ટીકલ વિષે તમારા પ્રતિભાવો કોમેન્ટમાં જરૂરથી લખજો. જય ભારત યુવા ભારત યુવાશક્તિ ઝીંદાબાદ કૌશિક પરમાર સંપાદક ૮૧૪૧૧૯૧૩૧૧

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *